Published On: Nov 15, 2019

असम में एनआरसी की अंतिम सूची से बाहर हुईं 61 वर्षीय महिला को डिटेंशन कैंप से निकालने और उनका नाम दोबारा सूची में जुड़वाने के लिए लिए त्रिपुरा के एक हेडमास्टर की पहल खूब सराहना हो रही है। हेडमास्टर दिलीप दास ना सिर्फ अपना पैसा खर्च कर असम पहुंचे बल्कि उन्होंने महिला की सहायता के लिए 10 दिन की अर्जित छुट्टी भी ली। हालांकि बाद में जब इस नेक पहल की जानकारी त्रिपुरा शिक्षा विभाग को हुई तो उसने इस छुट्टी को दास की आधिकारिक ड्यूटी में बदलने की पेशकश की है। असम के नलबाड़ी में 61 वर्षीय गीता रानी सरकार के शैक्षणिक रिकॉर्ड को प्रमाणित करने के लिए फॉरेनर्स ट्राइब्यूनल द्वारा चारिलम एचएस स्कूल के हेडमास्टर दिलीप दास को तलब किया गया। दणिण चारिलम गांव में जन्मीं गीता ने दावा किया था कि उन्होंने इसी स्कूल से पढ़ाई की है। दास फिलहाल इसी स्कूल में हेडमास्टर हैं।  

Related Videos

Entertainment Articles